top of page

यह सावन व्रत के नियम अपनाने से मिलेगी शिव कृपा और निश्चित मिलेगा सौभाग्य।


सावन व्रत के नियमों को अपनाने से पूरे माह भगवान शिव की कृपा और आशीर्वाद प्राप्त होते हैं। यहां हिंदी में सावन व्रत के कुछ महत्वपूर्ण नियम बताए जा रहे हैं:

  • व्रत की शुरुआत: सावन महीने के पहले सोमवार से ही सावन व्रत शुरू करें। सोमवार भगवान शिव के विशेष दिन होते हैं और सावन में इस दिन व्रत करने से अधिक पुण्य प्राप्त होता है।

  • निराहार व्रत: सावन में सभी दिनों के लिए निराहार व्रत रखा जाता है, जिसमें आपको ग्रहण करने या दाना-दान करने के लिए अन्न और ग्रहण जैसी वस्तुएं नहीं खानी चाहिए।

  • सावन में स्नान: व्रत के दिनों में रोज सुबह उठकर स्नान करें। स्नान के लिए गंगाजल, जल या दूसरे पवित्र नदी का पानी उपयोग करें। यदि यह संभव नहीं है, तो शिवलिंग पर जल चढ़ाएं।

  • माँ पार्वती और भगवान शिव की पूजा: सावन में दिनचर्या में शिवलिंग की पूजा करें और माँ पार्वती की भक्ति करें। इसके लिए बेलपत्र, धतूरा, गंगजल, फूल और धूप आदि का उपयोग करें। मंत्रों का जाप करते हुए शिवलिंग पर जल चढ़ाएं और उसे अपने मन की इच्छानुसार विशेष प्राण प्राणी से सम्मानित करें।

  • सात्विक भोजन: सावन में सात्विक आहार का सेवन करें। अन्न में हरी सब्जियां, फल, दूध, दाल, चावल, गेहूं के आटे का उपयोग करें। मांस और अशुद्ध आहार का सेवन न करें।

  • व्रत के समय नियमों का पालन: सावन व्रत के दौरान सभी नियमों का पालन करें। व्रती को अपनी शुद्धि और पवित्रता को बनाए रखने के लिए गंदगी और अशुद्धि से दूर रहना चाहिए।

  • मन की शुद्धि: व्रत के दौरान मन को शुद्ध और प्रसन्न रखने के लिए ध्यान, धारणा, प्राणायाम और मेधा शक्ति विकसित करने के अभ्यास करें। नकारात्मक विचारों को दूर रखें और भगवान की भक्ति में लगे रहें।

यहां दिए गए नियमों को अपनाकर आप सावन में व्रत का पालन कर सकते हैं। हालांकि, धार्मिक आदतों और परंपराओं का पालन व्यक्ति के आस-पास के सामग्रह, संस्कृति और आचार्यों की सलाह के आधार पर बदल सकता है। सावन व्रत का महत्व भारतीय संस्कृति में मान्यता प्राप्त है और इसे धार्मिक आदत के रूप में माना जाता है। यदि आपके पास व्रत के नियमों या प्रथाओं के बारे में अतिरिक्त सवाल हों तो आपको किसी संत, धार्मिक गुरु या पुजारी से परामर्श लेना चाहिए।

0 views0 comments
bottom of page